Astroscience
कैसा होता है आर्द्रा नक्षत्र में जन्मे जातकों का स्वभाव

कैसा होता है आर्द्रा नक्षत्र में जन्मे जातकों का स्वभाव

नक्षत्र मंडल की इस पूरी सीरीज में हमने अब तक अश्वनी, भरणी , कृतिका, रोहणी और मृगशिरा नक्षत्र के बारे में बताया है.
आज की हमारी पूरी चर्चा आर्द्रा नक्षत्र पर आधारित रहेगी। यह आकाश मंडल का छठवां नक्षत्र है। आर्द्रा नक्षत्र के स्वामी ग्रह राहु है, और इस नक्षत्र के देवता  रूद्र है, रूद्र शिव का ही एक नाम है,  और इस नक्षत्र के राशि स्वामी बुध होते है। अब क्योंकि ये नक्षत्र मिथुन राशि में सम्मलित है, और मिथुन राशि की स्वामी बुध है, यही वजह है कि इन लोगों पर बुध का सीधा प्रभाव देखने को मिलता है। आर्द्रा नक्षत्र मिथुन राशि में 6 डिग्री 40 मिनट से 20 डिग्री तक रहता है। इस नक्षत्र का प्रतीक चिन्ह आंसू की बूंद को माना गया, आद्रा का अर्थ होता है नमी अर्थात शीलन. 
आर्दा नक्षत्र का स्वामित्व  राहु के पास होने के कारण इन जातकों में राहु ग्रह से जुड़े बहुत से लक्षण और गुण देखने को मिलते है और इस नक्षत्र का  पूरा समावेश मिथुन राशि के अंदर आता है और मिथुन राशि के स्वामी बुध देव है इस कारण इस नक्षत्र के लोगों में बुध का प्रभाव भी देखने को मिलता है। इस नक्षत्र के लोगों को बुध का साथ मिलने के कारण यह  अपनी बुद्धि कौशल के बल पर कठिन से कठिन कार्यों में सफल होते है। बुध देव को कैल्कुलेशन, इंजीनियरिंग, और बिज़नेस से जोड़कर देखा जाता है, इसलिए आर्द्रा नक्षत्र के जातक ज्यादातर Mathematical operations से जुड़े जाँब में देखे जाते है। आर्द्रा नक्षत्र के जातक Mathematics, accounts, Commerce की field से जुड़े होते है, क्योंकि इस नक्षत्र के लोगों को पढना और पढाना बहुत अच्छा लगता है। आर्द्रा नक्षत्र के लोगों के अंदर राहु और बुध दोनो की अच्छी ऊर्जा देखने को मिलती है  और यही ऊर्जा इन्हे जीवन में ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद करती है।
इस नक्षत्र को थोड़ा और विस्तार से समझते है जैसा मैंने पहले कहा की इस नक्षत्र का सिंबल tear drop मतलब आसूं की बूँद को माना गया है और आंसू को भावनाओं का प्रतिरूप माना गया है, क्योंकि आंसु जब बहते है तब हमारे अंदर की निगेटिव ऊर्जा, मन में भरा क्रोध यह सब आंसु के माध्यम से निकल जाता है और जैसे ही आंसु बह जाते है तो हमारा मन बिल्कुल साफ हो जाता है और मन में एक नई फ्रेसनेस (ताजगी) का अहसास हो जाता है।
आर्द्रा नक्षत्र के लोगों में भावुकता ज्यादा होती है क्योंकि यह लोग दिल के बहुत ही साफ होते है, और इसी कारण लोगों की बातों में बहुत ही जल्दी आ जाते है। यह लोग बहुत ही खुशनुमा स्वभाव के होते है और यह बहुत ही ज्यादा जिज्ञासु भी होते है क्योंकि इन्हें हर चीज के बारे में जानना अच्छा लगता है। इन लोगों को जिस विषय में जानकारी नही होती है तो उसके बारे में पुछने में यह बिल्कुल भी संकोच नही करते है और उस विषय के जानकार से ज्ञान को अर्जित करते है तथा अपनी जिज्ञासा को शांत करते है। राहु और बुध की ऊर्जा इन लोगों की बहुत इंटेलीजेंट बनाती है। इन लोगों का नेचर थोडा सा बच्चों के जैसा होता है इन्हे खुश रहना ही अधिक पसंद होता है, परंतु अचानक से कुछ देर में नाराज भी हो जाते है। इनका जीवन बहुत ही परिवर्तन शील होता है । आर्द्रा नक्षत्र के लोगों की जिन्दगी बदलावों से  भरी होती है और यह निर्णय लेने में बिल्कुल भी देरी नही करते है क्योंकि इनको भी बदलाव पसंद होता है। आर्दा नक्षत्र के लोग बहुत इंटेलीजेंस होते है और इन लोगों का नेचर हेल्पफूल होता है। बुसिनेस सम्बंधित टैलेंट की बात करें तो बिज़नेस करने के गुण इनमें बहुत ज्यादा होते है क्योंकि बुध हमेशा इनके सपोर्ट में रहते है जिससे यह बिजनेस में काफी आगे तक जाते है। आर्द्रा नक्षत्र के लोगों में बुध और राहु का प्रभाव होने के कारण यह राजनीति में भी अच्छे राजनेता साबित होते है।
आर्द्रा नक्षत्र के लोगों में इस बात का थोड़ा सा ध्यान देना चाहिए क्योंकि यह कभी कभी आवेग में आकर ऐसे फाइनेंशियल डिसीजन (Financial decision)ले लेते है जिससे थोड़ी बहुत हानि मतलब -Financial losses का सामना भी करना पड़ सकता है। आर्द्रा नक्षत्र के लोगों का लगाव Creative Business) में बहुत ज्यादा होता है, इसलिए ये लोग ऐसे बिज़नेस या जॉब में अधितकर मिलेंगे जहाँ ये अपनी क्रिएटिविटी दिखा पाएं, आर्द्रा नक्षत्र के लोग एकाउंट्स, electronics engineering, pharmacist, Ordnance department, Arms department, writer, editor की जॉब करते या इनसे सम्बंधित बिज़नेस करते है  
आर्द्रा नक्षत्र के जो लोग चिकित्सा के क्षेत्र से भी जुड़े होते है जैसे होमियोपैथी दवाईयां, आयुर्वैदिक दवाईयाँ से सम्बंधित कार्यों से जुड़े होते है,  इसके साथ-साथ जो लोग कीमोथेरेपी Chemotherapy करते है वह भी आर्द्रा नक्षत्र से संबंध रखते है। Software engineering, electrical engineer, software developer, animation में कैरियर बनाने  वाले लोग भी आर्दा नक्षत्र से संबंध रखते है क्योंकि कही न कही इस नक्षत्र के लोगों में राहु और बुध की इनर्जी का प्रभाव देखने को मिलता है।
 
तो आप लोग इतनी सारी जानकारी मिलने के बाद जान ही गये होगे कि आर्द्रा नक्षत्र में जन्म लोग कैसे होते है 
और इनका स्वाभाव कैसा होता है,  
आज की हमारी पूरी चर्चा आद्रा नक्षत्र पर केंद्रित रही.अन्य नक्षत्रो के बारे  में जानने के लिए आगे के लेख पढ़े.


यह भी पढ़ें - लाल किताब के अनुसार कब और कैसे खत्म होगा कोरोना का कहर

(Updated Date & Time :- 2020-04-07 09:48:13 )


Gd Vashisht Enquiry

Comments

speak to our expert !

Positive results come with right communication and with decades of experience. Try for yourself about our experts by calling one of them
to feel the delight about understanding your problems, and in getting the best solution and remedies.

Astroscience