Astroscience

आदित्य नारायण

आदित्य नारायण का जन्म उत्तर प्रदेश के वाराणसी में हुआ था। आदित्य नारायण के  पिता हिंदी सिनेमा के मशहूर गायक उदित नारायण हैं। उनकी माँ का नाम दीपा नारायण है। उनका पूरा परिवार संगीत से तालुकात रखता है। उनके दादा हरी कृष्ण झा और दादी भुवनेश्वरी झा भी अपने जमाने में गातीं थीं। आदित्य नारयण ने अपनी शुरूआती पढ़ाई उत्पल सांघवी स्कूल से संपन्न की है। उन्होंने मीठीबाई कॉलेज से कॉमर्स में स्नातक की मानक डिग्री प्राप्त की है।


Celebrity Horoscope आदित्य नारायण Kundli
  • नाम:- आदित्य नारायण
  • जन्म की तारीख:- 06-08-1987
  • जन्म का समय:- 12:00
  • जन्म का स्थान:- Mumbai
  • सूचना स्रोत:- Internet
Celebrity Horoscope आदित्य नारायण Kundli

आदित्य नारायण का राशिफल

1992 से आदित्य जी की जन्मकुंडली मे शुक्र की महादशा का समय शुरू हुआ । शुक्र कला और संगीत का कारक है इसलिए कम उम्र मे ही उनको इस कार्य की तरफ विशेष रुचि प्रदान की । आदित्य जी की जन्मकुंडली मे बुध शुक्र के मेल ने उनको मधुर वाणी का स्वामी बनाया और उसके साथ मे ही इसी शुक्र की महादशा मे उनको काफी प्रसिद्धि भी प्राप्त हुई । 2012 से 2018 तक आदित्य जी की जन्मकुंडली मे सूर्य की महादशा उनको प्रभावित करती रही । कामकाज के स्थान पर सूर्य होने के कारण उनको कार्य के मामले मे काफी शुभ रहा लेकिन सूर्य पिता के सुख को दर्शाता है इसलिए पिता की सेहत और कार्य के लिए यह समय कुछ खास शुभ नहीं रहा। आदित्य जी की जन्मकुंडली मे 2018 से चंद्रमा की महादशा का समय शुरू हुआ जोकि 2028 तक उनको प्रभावित करेगा । यह समय धन के मामले मे काफी शुभ रहने वाला है इसके साथ ही यह समय यात्रा के लिए भी काफी शुभ संकेत दे रहा है। माता की सेहत मे कुछ न कुछ खराबी बनने के योग बनते है । देश जन्म स्थान बदलने के शुभ परिणाम के भी योग है। यदि खराब योग के सही समय पर उपाय कर लिया जाए तो जीवन और अधिक सुखमय हो जाएगा। शुभ रत्न – मोती

आदित्य ने अपने पार्श्व गायन करियर की शुरुआत साल 1992 में नेपाली फिल्म मोहिनी से की थी। उसके बाद उन्होंने साल 1995 में स्वर कोकिला आशा भोसलें के साथ कैमियो किया था। आदित्य ने करीबन 16 भाषाओं में कई गानों में अपनी आवाज दी है। अभिनय और गायकी के अलावा आदित्य एक बेहद अच्छे टीवी प्रस्तोता भी हैं। वह अब तक सिंगिंग बेस्ड टीवी रियलिटी शोज़ को होस्ट कर चुकें हैं। जिनमे सारेगामापा लील चैंप और सोनी का एक्स फैक्टर शो शामिल हैं। आदित्य नारायण जी का जन्म केतु की महादशा मे 1987 मे मुंबई शहर मे हुआ । आदित्य जी को गायन कला उनके पुवजों से प्राप्त हुआ । आदित्य जी की जन्मकुंडली मे कामकाज के स्थान पर बैठे सूर्य मंगल ने उन्हे पिता के कार्यों मे रुचि के योग बनाए । इसी के साथ शुक्र भी दशम भाव मे होने के कारण उनको कला के प्रति विशेष रुचि रही ।

Like & Follow

हमारे विशेषज्ञों से बात करें

अच्छे परिणाम, सही संचार और दशकों का अभ्यास अब आपको सिर्फ एक ही मंच पर यहाँ मिलता है l आप कॉल करके हमारे विशेषज्ञों से अपने लिए अच्छे उपाय प्राप्त कर सकते है। आपकी हर समस्या का समाधान और उसके उपाय आप अब आसानी से प्राप्त कर सकते है।

Astroscience
WhatsApp chatWhatsApp Us