Astroscience

कंगना रनौत

कंगना राणावत का नाम कौन नहीं जानता वह अपनी बेबाक बातो और अपने शानदार प्रदर्शन की वजह से प्रसिद्ध है । आज हम इस अभिनेत्री के बारे मे ज्योतिष तथ्यो के साथ प्रकाश डालेंगे। कंगना जी का जन्म  मार्च 1987 मे मंडी हिमाचल मे हुआ। उनके पिता का नाम अमरदीप राणावत है जोकि अपना व्यपार करते है। कंगना राणावत की माता का नाम आशा राणावत है। उनको भाई बहन दोनों का सुख मिला। उनकी कुंडली मे बने गुरु राहू के चांडाल योग के कारण कंगना को शिक्षा के प्रति विशेष रुचि नहीं रही। उन्होने अपने जीवन की छोटी उम्र मे ही अपने कार्य के बारे मे सोच लिया था जोकि अपने आने वाले समय मे वह अपने आपको साबित कर पाने मे सफल भी रही। वह बहुत ही आकर्षक सोंदार्य की रही। कंगना राणावत जी का जन्म शुक्र की महादशा मे हुआ जोकि उनको 20 साल तक प्रभावित करती रही। अपने बचपन से ही वह तेज दिमाग लेकिन शिक्षा मे कम रुचि लेने वाली रही। इसी बात के कारण उनको अपने पिता के साथ वाद विवाद का सामना करना पड़ा। कंगना राणावत जी की जन्म कुंडली मे शुक्र मकर राशि मे अष्टम भाव मे विराजित होकर कला के क्षेत्र मे काफी संघर्ष दिया। कंगना की जन्मकुंडली मे बहुत ही छोटी उम्र मे स्थान परिवर्तन के योग बने चौथे घर मे विराजमान केतू ने बाहर जाकर उनको सफलता भी दिलाई। मंगल लाभस्थान मे विराजित ने उनको उनकी मेहनत का पूरा लाभ दिया। 2002 मे सूर्य की महादशा का समय शुरू हुआ जोकि इनको 6 साल तक प्रभावित करती रही। सूर्य के इस समय ने उनको कामकाज के काफी अच्छे सुख प्रदान किए।इस समय के बाद कंगना ने पीछे मूड कर नहीं देखा 2005 मे उनके घर मे हादसा हुआ जिसके चलते उनकी बहन को एसिड अटैक का सामना करना पड़ा यह समय काफी तनाव वाला रहा । 


Celebrity Horoscope कंगना रनौत Kundli
  • नाम:- कंगना रनौत
  • जन्म की तारीख:- 23-03-1987
  • जन्म का समय:- 12:00
  • जन्म का स्थान:- भांबला, हिमाचल प्रदेश
  • सूचना स्रोत:- from Internet
Celebrity Horoscope कंगना रनौत Kundli

कंगना रनौतका राशिफल :-


उनकी जन्मकुंडली मे शनि के घर मे बैठे सूर्य इसी समय बदनामी का भी योग बनाते है वो चाहे प्रेम प्रसंग को लेकर हो सकता है चाहे बोले हुए शब्दो को लेकर हो सकता है। इस लिए थोड़ा सोच समझ कर ही किसी बात को बोला जाए अथवा मान हानी का सामना करना पड़ सकता है। कंगना राणावत की जनमकुंडली मे 2008 से चंद्रमा का समय आया जोकि काफी सफल साबित हुआ। यह समय उनको प्रेम के मामलो मे काफी परेशान करने वाला रहा। जैसे ही 2008 मे मंगल की महादशा का आगमन हुआ कंगना राणावत ने अपनी एक नई पहचान बनाई एतिहासिक फिल्म बनाकर उन्होने अपने आलोचको से भी तरीफे पाई। लकीन अप्रैल 2019 से मई 2020 तक मंगल मे राहू का अंतर समय चला जोकि सामाजिक तौर पर काफी परेशानी भरा रहा अपनी बोली के कारण उनको काफी नुकसान उठाना पड़ा यह नुकसान मानसम्मान का और साथ ही पैसे का भी था कोर्ट कचहरी के योग भी बने जोकि मानसिक तौर पर भी काफी परेशान करने वाला था । मई 2020 से मंगल मे गुरु का अंतर समय चल गया है जोकि इनको अप्रैल 2021 तक प्रभावित करेगा गुरु सूर्य की युति सरकार की तरफ से सहयोग तो देगी अचानक लेकिन दुश्मन के सामने आ जाने का योग भी बनाएगी। इसलिए यह साल बहुत ही ध्यान से और हालात को देखते हुए किसी भी विषय पर अपनी राय दे अन्यथा मान सम्मान और धन दोनों का नुकसान उठाना पड़ सकता है। कामकाज के मामले मे आने वाला समय काफी बेहतर है यदि लाल किताब के उपाय सही समय पर कर लिए जाए तो कई बुरे योग टल जाएगी जिससे वह हर तरह के नुकसान से बच सकती है।

Like & Follow

हमारे विशेषज्ञों से बात करें

अच्छे परिणाम, सही संचार और दशकों का अभ्यास अब आपको सिर्फ एक ही मंच पर यहाँ मिलता है l आप कॉल करके हमारे विशेषज्ञों से अपने लिए अच्छे उपाय प्राप्त कर सकते है। आपकी हर समस्या का समाधान और उसके उपाय आप अब आसानी से प्राप्त कर सकते है।

Astroscience