Astroscience

माइकल जैक्सन

माइकल जैक्सन एक अमेरिकी गायक, संगीतकार, गीतकार, रिकार्ड निर्माता,डांसर और बेहतरीन कलाकार है, जिन्हें किंग ऑफ पॉप के नाम से भी जाना जाता है। डांस और म्यूजिक में उनके अतुलनीय योगदान और उनकी विचित्र शैली ने उन्हें वैश्विक स्तर पर प्रसिद्धि दिलाई 4 दशक से भी अधिक समय तक वैश्विक स्तर पर वे प्रसिद्ध थे। माइकल जैक्सन का जन्म राहु की महादशा में 29 अगस्त 1958 में अमेरिका में हुआ। यह दशा इनको 1948 से 1966 तक प्रभावित करती रही।

जैसे ही गुरू की महादशा का आगमन हुआ वह अपने भाईयों के ग्रुप में शामिल हो गये और जैक्सन परिवार में एक बेहतरीन सिंगर का आगमन हुआ । यह दशा इनको 16 साल तक प्रभावित करने वाली थी, और इसी बीच 11 साल की उम्र में गायकी आरंम्भ कर दी थी । गुरू के अच्छे प्रारंभिक और योगो के साथ-2 लग्न मे बैठे बुध ने गायकों के सहारे अपने आप को प्रसिद्धि दिलाने का काम किया। गुरू की यह दशा 1966 से 1982 तक चलने वाली थी और इसी बीच इन्होने 1971 में अपना खुद का काम शुरू कर लिया था।


Celebrity Horoscope माइकल जैक्सन Kundli
  • नाम:- माइकल जैक्सन
  • जन्म की तारीख:- 29-08-1958
  • जन्म का समय:- 19:33
  • जन्म का स्थान:- Gary, Indiana, United States America
  • सूचना स्रोत:- Internet
Celebrity Horoscope माइकल जैक्सन Kundli

माइकल जैक्सन का राशिफल

बुध की दशा जो कि इनके जीवन को 2001 से प्रभावित करती रही जिससे हैल्थ से परेशानियां और कई तरह के अशुभ प्रभाव माइकल जैक्सन को परेशानी में घेरे रखने का काम किया । 25 जून 2009 जब वह अपने आने वाले कार्यक्रम की तैयारी कर रहें थे तभी नुकीली और नशीली दवाईयों के सेवन से ह्रदय विकार मे उनकी मृत्यु हो गई ।

जैक्सन ने गायकों की दुनिया में जल्द ही अपना सिक्का जमा लिया था और किंग ऑफ पॉप के नाम से दुनिया भर में प्रसिद्ध हो गये । कई तरह के हिट एल्बम दुनिया के आगे पेश किये लेकिन आखरी साल 1982 में जारी की गई एल्बम (थ्रेटर) उनका अब तक में सबसे अधिक बिकने वाला रहा l वह इनते लोकप्रिय बन चुके थे कि इनके गानों को टी.वी. पर चलने के लिए एक नये चैनल एम. टी. वी. पर उतारा। जहां उनके गाने प्रकाशित होते थे। सूर्य लग्न और शुक्र के 12 वें स्थान पर होने के कारण इनकी प्रसिद्धि दिलाई की इनकी झलक पाने के लिए लोग इन्हें घर के आगे घण्टों तक बाहर खड़े रहते थे। अपनी डांस और अनोखे नृत्य शैली प्रसिद्ध हो गई । गुरू की दशा ने इनको काफी हद तक उठाने का काम किया लेकिन शनि की महादशा जैसी ही आई 1982 से 2001 तक का यह समय थोड़ा अशुभ प्रभावों से भरा हुआ था। जिससे कई तरह की बदनामी जेल यात्रा और मान-सम्मान की हानि के योग बने हुऐ थे । इसी बीच शनि के अशुभ प्रभावों व मंगल, केतु के मेल ने कई बार सर्जरी कराई लेकिन 2000 सन् में गिनीज बुक रिकार्ड ने उन्हें 39 सामाजिक संस्थानओं को मदद करने के उपलक्ष्य में सम्मानित किया।

Like & Follow

हमारे विशेषज्ञों से बात करें

अच्छे परिणाम, सही संचार और दशकों का अभ्यास अब आपको सिर्फ एक ही मंच पर यहाँ मिलता है l आप कॉल करके हमारे विशेषज्ञों से अपने लिए अच्छे उपाय प्राप्त कर सकते है। आपकी हर समस्या का समाधान और उसके उपाय आप अब आसानी से प्राप्त कर सकते है।

Astroscience
WhatsApp chatWhatsApp Us