Astroscience
कुण्ड़ली में शनि की साढ़े साती के प्रभाव क्या-क्या है ?(What are the effects of Saturn’s Sade-Sati in the Birth Chart?)

कुण्ड़ली में शनि की साढ़े साती के प्रभाव क्या-क्या है ?(What are the effects of Saturn’s Sade-Sati in the Birth Chart?)

प्रश्न – शनि की साढ़े साती के असर को कैसे कम करें ?

उत्तर – ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब किसी इंसान की साढ़े साती शुरु होती है, तो उसके जीवन के अंदर अचानक से उतार चढ़ाव आते है, जिसे इंसान जल्दी से समझ भी नही पाता है। साढ़े साती की का मुख्य कारण शनि की चन्द्रमा के ऊपर द्रष्टि पर निर्भर करता है। शनि की साढ़े साती का असर एक बार हर इंसान के जीवन में आता है, किसी किसी इंसान के लिए शनि की साढ़े साती लाभ पहुचाने वाली भी होती है और किसी किसी को तो मृत्यु तुल्य कष्ट भी देती है।   यह आपकी कुण्ड़ली की स्थिति पर निर्भर करता है। अगर जन्म कुण्ड़ली में चन्द्रमा किसी ऐसे घर में बैठे हो जो उनका खुद का घर हो या फिर अपने किसी मित्र ग्रह के घर में विराजमान हो और किसी दुष्ट ग्रह से पीड़ित न हो साथ ही यही स्थिति शनि देव पर भी लागु होती है कि वह भी ज्योतिषीय नियमों के आधार पर किसी भी ग्रह से पीड़ित न हो तो ऐसे शनि की साढ़े साती से परेशान होने की जरुरत नही है। यदि स्थिति इसके विपरीत है तो शनि की साढ़े साती के उपाय अवश्य करें ।

लाल किताब उपाय – हर दिन बड़ के पेड़ पर दूध,पानी चढ़ाये और साथ ही वहीं की गीली मिट्टी का तिलक लगाए। हर शनिवार के दिन मजदूरों को कुछ न कुछ खाने को जरुर दें और कुत्ते, कौओं की भी सेवा करें ।

नोट  - उपाय करने के पूर्व ज्योतिषीय सलाह अवश्य लें ।

Question: How to reduce the effect of Saturn’s Sade-Sati?

Answer: According to Astrology, when Sade-Sati starts with any person, then in his-her life sudden ups and downs come, and this a person is not able to understand quickly also. The main reason for Sade-Sati depends on the view of Saturn on the moon. The influence of Saturn’s Sade-Sati definitely comes once in every person’s life, for some persons, Saturn’s Sade-Sati also the type to bring benefit, and for some, it gives death like trouble. This depends upon the status-situation of your horoscope birth chart, Kundli. If in the Janam Kundli, the moon is seated in such as House, that is of its own House, or then is seated in some friendly planet’s House, and is not victim of some bad-evil planet, along with it the same situation is applicable with Saturn, that it also on the basis of Astrology norms, is not a victim due to any planet, then with such Saturn’s Sade-Sati there is nothing to worry about. If the situation is the opposite of this, they must do the remedy for Sade-Sati.

Lal Kitab Remedy: Every day offer water and milk to a Banyan tree, and along with it, the wet soil of that place, put Tilak mark. Every Saturday must give something or the other to eat to

laborers, and also serve the dogs, crows.

 

Note:                          Before doing the remedies, must take the Astrology advice.                  


Gd Vashisht Enquiry

Comments

speak to our expert !

Positive results come with right communication and with decades of experience. Try for yourself about our experts by calling one of them
to feel the delight about understanding your problems, and in getting the best solution and remedies.

Astroscience
WhatsApp chatWhatsApp Us